Chand Par Kon Kon Gaya Hai | चाँद पर कौन-कौन गया है ? Ok Google

Chand Par Kon Kon Gaya Hai: नमस्कार मित्रों आज हम ऐसे चर्चित व्यक्तियों के बारे में बात करने वाले हैं जिन्होंने चांद (Moon) पर कदम रखा है. अगर आप यह जानने के लिए उत्सुक हैं कि चांद पर कौन-कौन गया है? तो हम आपको सभी उन लोगों की सूची प्रदान करने वाले हैं जो चांद पर गए हैं अधिक जानकारी के लिए आप पूरी पोस्ट पढ़ें।

20 जुलाई 1969 को अपोलो इलेवन ने पहले अंतरिक्ष में उड़ान भरी जिसमें चंद्रमा पर पहला इंसान नील आर्मस्ट्रांग तथा ऐडविन “बज़” ऐल्ड्रिन जुनियर को अंतरराष्ट्रीय समयानुसार 20:17:39 बजे चंद्रमा पर उतरा था. यह मिशन संयुक्त राज्य अमेरिका का अंतरिक्ष में ऐतिहासिक मिशन था जो उस समय एक बहुत बड़ी उपलब्धि थी।

वहीं चंद्रमा पर पहुंचने वाला पहला अंतरिक्ष यान सोवियत संघ का लूना-2 था, यह यान 13 सितंबर 1959 को चंद्रमा पर पहली बार उतरा था।

शुरुआत में जब NASA की स्थापना  1958 में की गई थी तो उस समय सेना में शामिल पुरुष कर्मचारियों की भर्ती हुई.  और 1970 से 1972 तक अब तक 12 अंतरिक्ष यात्री चांद पर जा चुके हैं.  वहीं 1983 में पहली बार महिला को अंतरिक्ष में भेजा गया जिनका नाम सेली राइड  है वह अमेरिका मूली की है।

चाँद पर जाने वाले लोगों की लिस्ट

अब तक कुल 12 पुरुष अंतरिक्ष यात्री चंद्रमा पर उतर चुके हैं जो कि सभी यूएस अपोलो मिशन कार्यक्रम का हिस्सा थे। इन सभी चालक दलों की लैंडिंग जुलाई 1969 से 1972 के बीच हुई।

  1. नील आर्मस्ट्रांग (अपोलो 11)
  2. बज़ एल्ड्रिन (अपोलो 11)
  3. पीट कौनरैड (अपोलो 12)
  4. एलन बीन (अपोलो 12)
  5. एलन शेपर्ड (अपोलो 14)
  6. एडगर मिशेल (अपोलो 14)
  7. डेविड स्कॉट (अपोलो 15)
  8. जेम्स इरविन (अपोलो 15)
  9. जॉन यंग (अपोलो 16)
  10. चार्ल्स ड्यूक (अपोलो 16)
  11. यूजिन सरनेन (अपोलो 17)
  12. हैरिसन श्मिट्ट (अपोलो 17)

तो चलिए जान लेते है की Chand Par Kon Kon Gaya Hai और किस किस मिशन के तहत गया है सभी लोगो की सूचि नीचे दी गयी है।

1. नील आर्मस्ट्रांग (अपोलो 11): एक अमेरिकी खगोल यात्री तथा चंद्रमा पर पहली बार कदम रखने वाले व्यक्ति थे इसके अलावा हुए नौसेना अधिकारी, परीक्षण,प्रोफेसर तथा एयरोस्पेस इंजीनियर भी थे. इनका जन्म 5 अगस्त 1930 को अमेरिका के ओहियो प्रांत के वापाकोनेता में हुआ था वह बचपन से ही हवाई यात्रा के प्रति रुचि रखते थे मात्र 15 वर्ष की आयु में ही उन्होंने लाइट सर्टिफिकेट प्राप्त कर लिया था. सन 1958 में उनका चयन अमेरिका वायुसेना के मैन इन स्पेस सूनेस्ट मैं हुआ. 20 जुलाई 1970 को हुए अपोलो 11 मिशन पर गए।

जब कोई अपोलो 11 मिशन से सफलतापूर्वक लौटे तो अमेरिका के राष्ट्रपति निक्सन ने नील आर्मस्ट्रांग को प्रेसिडेंट मेडल ऑफ फ्रीडम से सम्मानित किया तथा 1978 में अमेरिका के राष्ट्रपति जिमी कार्टर ने उन्हें Congressional Space Medal of Honor से भी सम्मानित किया। तथा उनकी मृत्यु 25 अगस्त 2012 को Cincinnati में हुई जब वह 82 साल के थे.

नामनील एल्डन आर्मस्ट्रांग
शिक्षापुरडु यूनिवर्सिटी (बी॰एस॰) 1955
यूनिवर्सिटी ऑफ साऊथर्न केलिफॉर्निया (एम॰एस॰) 1970
व्यवसायखगोलयात्री
पुरस्कारप्रेजिडेंटल मैडल ऑफ फ्रीडम
कॉंग्रेसनल स्पेस मैडल ऑफ ऑनर
नागरिकताअमेरिकी

2. बज़ एल्ड्रिन (अपोलो 11): दुनिया के दूसरे ऐसे व्यक्ति जिन्होंने चांद पर कदम रखा यह 20 जुलाई 1974 को अपोलो इलेवन के तहत नील आर्मस्ट्रांग के साथ अंतरिक्ष में गए थे वह एक अमेरिकन है. वे इस मिशन में वैमानिक इंजीनियर तथा अपोलो 11 के ल्यूनर मोड्यूल कमांडर थे. उन्हें 1963 में नासा ने अंतरिक्ष यात्रियों की तीसरे समूह के एक हिस्से के रूप में चयनित किया गया। उनके नाम एक रिकॉर्ड भी कायम है वह उत्तरी ध्रुव की यात्रा पर करने वाले सबसे ज्यादा आयु (86 वर्ष) के व्यक्ति हैं यह यात्रा उन्होंने 2016 में की थी।

नामबज़ एल्ड्रिन
शिक्षामैसाचुसेट्स प्रौद्योगिकी संस्थान
व्यवसायखगोलयात्री, अभियन्ता, व्यापारी
पुरस्कारनासा अंतरिक्ष उड़ान पदक
नागरिकताअमेरिकी

3. पीट कोनराड (अपोलो 12): चांद पर उतरने वाले व्यक्ति थे अपोलो 12 मिशन जब चंद्रमा पर भेजा गया था तो उसमें पीट कॉनराड भी शामिल थे वह एक वैमानिक इंजीनियर के साथ-साथ नासा के लिए कार्य करते थे. बाद में सन 1973 में कॉनराड नासा से रिटायर हो गए. इनका जन्म 2 जून 1930 को फिलाडेल्फिया में हुआ. तथा 8 जुलाई 1999 को मोटरसाइकिल  दुर्घटनाग्रस्त होने के कारण उनकी मौत हो गई उस समय में और 69 साल के थे।

नामपीट कोनराड
शिक्षाप्रिंसटन विश्वविद्यालय से वैमानिकी इंजीनियरिंग, यूएस नेवल टेस्ट पायलट स्कूल
व्यवसायनेवल एविएटर टेस्ट पायलट एस्ट्रोनॉट
पुरस्कारविशिष्ट फ्लाइंग क्रॉस
नौसेना विशिष्ट सेवा पदक
नासा विशिष्ट सेवा पदक
नासा असाधारण सेवा पदक
कांग्रेसनल स्पेस मेडल ऑफ ऑनर
कोलियर ट्रॉफी
हारमोन ट्रॉफी
नागरिकताअमेरिकी

4. एलन बीन (अपोलो 12): चंद्रमा पर पहुंचने व्यक्तियों की सूची में चौथे नंबर पर हैं इनका जन्म 15 मार्च 1932 को हुआ था। वह एक अमेरिकी नौसेना अधिकारी तथा नौसेना सलाहकार के साथ-साथ एरोनॉटिकल इंजीनियर, परीक्षण पायलट तथा नासा के अंतरिक्ष यात्री थे. वे अपोलो 12 मिशन में नील आर्मस्ट्रांग, बज एल्ड्रिन और चार्ल्स पीट कॉनराड के साथ थे। उन्होंने 1981 तक नासा के लिए कार्य किया तथा बाद में रिटायर हो गए वे एक अमेरिकी नागरिक थे जब वह 86 वर्ष के थे तो 26 मई 2018 में उनकी मृत्यु हो गई।

नामएलन बीन
मिशनअपोलो 12, स्काई लैब 3
व्यवसायनौसेना एविएटर, परीक्षण पायलट
पुरस्कारनासा विशिष्ट सेवा पदक
नागरिकताअमेरिकी

5. एलन शेपर्ड (अपोलो 14): एक अमेरिकन अंतरिक्ष यात्री, परीक्षण पायलट, नौसेना एविएटर तथा एक व्यवसाई थे वह पांचवें व्यक्ति हैं जिन्होंने चंद्रमा पर कदम रखा तथा अंतरिक्ष में यात्रा करने वाले दूसरे व्यक्ति हैं. उन्होंने अपना स्नातक एनापोलिस यूनाइटेड स्टेट से किया। तथा 1946 में हुई एक नौ सेना के विमान चालक बन गए। 21 जुलाई 1988 जब वह 74 साल के थे उनकी मृत्यु हो गई।

नामएलन शेपर्ड
मिशनमरकरी-रेडस्टोन 3, अपोलो 14
व्यवसायनौसेना एविएटर, परीक्षण पायलट
पुरस्कारनौसेना विशिष्ट सेवा पदक
विशिष्ट फ्लाइंग क्रॉस
कांग्रेसनल स्पेस मेडल ऑफ ऑनर
नासा विशिष्ट सेवा पदक
नासा असाधारण सेवा पदक
नागरिकताअमेरिकी

6. एडगर मिशेल (अपोलो 14): एक अंतरिक्ष यात्री हैं जो चांद पर जाने वाले व्यक्तियों की सूची में छठवां नंबर पर आते हैं वह एक अमेरिकी नागरिक हैं इनका जन्म 17 सितंबर 1930 को हुआ था। 1971 में वे चंद्रमा से जुड़े अपोलो 14 मिशन के सदस्य थे। उनके साथ अपोलो 14 मिशन में एलन बी. शेपर्ड जूनियर और ए.एटुअर्ट रोसा भी शमिल थे। अंतरिक्ष यात्री बनने से पहले उन्होंने कार्नेगी इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से अपना औधोगिक प्रबंधन में विज्ञान स्नातक किया तथा 1952 में संयुक्त राज्य की नौसेना में प्रवेश किया। मिशेल को 1966 में नासा द्वारा पांच अंतरिक्ष यात्री के रूप में चुना गया।

उन्हें अपोलो 9 के लिए सपोर्ट क्रू को सौंपा गया था, फिर उन्हें अपोलो 10 के लिए बैकअप लूनर मॉड्यूल पायलट के रूप में नामित किया गया था। 4 फरवरी 2016 को 85 वर्ष की आयु में उनका फ्लोरिडा के वेस्ट फॉर्म बीच में धर्मशाला में उनकी मृत्यु हो गई।

नामएडगर मिशेल
मिशनApollo 14
व्यवसायनेवल एविएटर, टेस्ट पायलट, इंजीनियर, एस्ट्रोनॉट
पुरस्कारस्वतंत्रता का राष्ट्रपति पदक
नासा विशिष्ट सेवा पदक
नागरिकताअमेरिकी

7. डेविड स्कॉट (अपोलो 15): चांद पर जाने वाले सातवें व्यक्ति के रूप में डेविड स्कॉट को जाना जाता है उन्होंने 31 जुलाई 1971 में अपोलो 15 मिशन के तहत चंद्रमा पर कदम रखा वे एक अमेरिकी नागरिक थे वह अपोलो 15 के वायु चालक भी थे। सन 1977 में वह नासा से रिटायर हो गए और उन्होंने लेखक रूप में कार्य किया। फिलहाल अभी वह कैलिफोर्निया के लॉस एंजेल्स में रहते हैं उनका जन्म 6 जून 1932 को अमेरिका के सन एंटोनियो टैक्सास में हुआ।

नामडेविड स्कॉट
मिशनApollo 15
व्यवसायलड़ाकू पायलट, परीक्षण पायलट, अंतरिक्ष यात्री
पुरस्कारविशिष्ट फ्लाइंग क्रॉस
नासा विशिष्ट सेवा पदक
नागरिकताअमेरिकी

8. जेम्स इरविन (अपोलो 15): चंद्रमा पर कदम रखने वाले आठवें बिकती हैं इनका पूरा नाम जेम्स बेन्सन इरविन है जो कि एक अमेरिकी वायुसेना के पायलट, परीक्षण पायलट तथा वैमानिक इंजीनियर है. इनका जन्म 17 मार्च 1930, पिट्सबर्ग, पेनसिल्वेनिया, संयुक्त राज्य अमेरिका में हुआ, यह अपोलो 15 मिशन के हिस्सा थे तथा 1972 में यह नासा से रिटायर हुए बाद में चलकर उन्होंने आउटरीच संगठन हाई फ्लाइट फाउंडेशन की स्थापना भी की। लेकिन 8 अगस्त 1991 में हार्ट अटैक की वजह से एक की मृत्यु हो गई।

नामजेम्स इरविन
मिशनApollo 15
व्यवसायलड़ाकू पायलट, परीक्षण पायलट, अंतरिक्ष यात्री
पुरस्कारनासा विशिष्ट सेवा पदक
नागरिकताअमेरिकी

9. जॉन यंग (अपोलो 16): वह एक अमेरिकन अंतरिक्ष यात्री, नौसेना अधिकारी, परीक्षण पायलट तथा वैमानिक इंजीनियर थे वे चांद पर कदम रखने 9वे व्यक्ति थे। जॉन वाट्स यंग का जन्म 24 सितंबर 1930 को हुआ. उन्हें 1972 अपोलो 16 मिशन के कमांडर के रूप में जाने जाते हैं। अंतरिक्ष यात्री बनने से पहले उन्होंने जॉर्जिया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से वैमानिक इंजीनियर में विज्ञान स्नातक की डिग्री प्राप्त की तथा यूएस नौसेना में शामिल हो गए। 1962 में, यंग को नासा के अंतरिक्ष यात्री समूह 2 के सदस्य के रूप में चुना गया था। 5 जनवरी 2018 को 87 वर्ष की उम्र में उनकी मृत्यु ह्यूस्टन टैक्सास यूएसए में हुई।

नामजॉन यंग
मिशनApollo 16
व्यवसायनौसेना एविएटर, परीक्षण पायलट
पुरस्कारविशिष्ट फ्लाइंग क्रॉस
कांग्रेसनल स्पेस मेडल ऑफ ऑनर
नासा विशिष्ट सेवा पदक
नागरिकताअमेरिकी

10. चार्ल्स ड्यूक (अपोलो 16): इनका जन्म 3 अक्टूबर 1935 में हुआ वह एक अंतरिक्ष यात्री होने के साथ-साथ अमेरिकी वायुसेना अधिकारी तथा परीक्षण पायलट है। वह 1972 अपोलो 16 मिशन में पायलट के रूप में थे। चंद्रमा पर चलने वाले 10 वे व्यक्ति के रूप में जाने जाते हैं. उस समय उनकी उम्र मात्र केवल 36 साल तथा 201 दिन थी। उन्होंने अपना स्नातक यूनाइटेड स्टेट्स नवल अकैडमी से किया जहां पर वह यूएसएएफ में शामिल हुए। तथा उन्होंने जॉर्जिया के मूडी एयर फोर्स बेस में f-86 सेवर पर उन्नत उड़ान परीक्षण पूरा किया जहां वे प्रतिष्ठित स्नातक थे।

नामचार्ल्स ड्यूक
मिशनApollo 16
व्यवसायलड़ाकू पायलट, परीक्षण पायलट, अंतरिक्ष यात्री
पुरस्कारवायु सेना विशिष्ट सेवा पदक
मेरिटो की सेना
नासा विशिष्ट सेवा पदक
नागरिकताअमेरिकी

11. यूजिन सरनेन (अपोलो 17): चांद पर जाने वाले व्यक्तियों की सूची में यूजिन सरनेन का नाम भी आता है वह चंद्रा पर पैर रखने वाले 11वीं व्यक्ति थे। जीन सर्नन का जन्म अमेरिका के शिकागो में हुआ था, वह एक अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री, इलेक्ट्रिकल इंजीनियर, फाइटर पायलट नौसैनिक एविएटर तथा वैमानिक इंजीनियर थे। वह सन 1976 में नासा से रिटायर हो गए। तथा 16 जनवरी 2017 को सिह्यूस्टन टेक्सास मैं उनकी मृत्यु हुई।

नामयूजिन सरनेन
मिशनApollo 17
व्यवसायनेवल एविएटर, फाइटर पायलट, एस्ट्रोनॉट
पुरस्कारअंतरिक्ष यात्री बैज
विशिष्ट फ्लाइंग क्रॉस
नासा विशिष्ट सेवा पदक
नागरिकताअमेरिकी

12. हैरिसन हैगन श्मिट (अपोलो 17): चंद्रमा पर जाने वाले 12वे व्यक्ति थे जिन्होंने अपोलो 17 मिशन के तहत चंद्रमा पर कदम रखे यह मिशन 11 से 14 दिसंबर 1972 तक था। वह पेशे से एक नौसेना पायलट, वैमानिक इंजीनियर तथा उस समय अपोलो 17 के कमांडर थे। हरिश्चंद्र का जन्म 3 जुलाई 1935 को हुआ. दिसंबर 1972 में, अपोलो 17 में सवार एक चालक दल के रूप में, श्मिट अंतरिक्ष में उड़ान भरने वाले नासा के पहले वैज्ञानिक-अंतरिक्ष यात्री समूह के पहले सदस्य बने।

नामहैरिसन हैगन श्मिट
मिशनApollo 17
व्यवसायनौसेना पायलट, वैमानिक इंजीनियर, कमांडर
पुरस्कारनासा विशिष्ट सेवा पदक
नागरिकताअमेरिकी

FAQ

Chand Par Kon Kon Gaya Hai?

चांद पर अब तक 12 व्यक्तियों ने कदम रखे हैं और यह सभी अपोलो मिशन का हिस्सा थे इन सभी को US द्वारा चांद पर भेजा गया।

चांद पर जाने वाला पहला व्यक्ति कौन था?

चांद पर पहली बार कदम रखने वाले व्यक्ति नील आर्मस्ट्रांग थे और वे अपोलो 11 मिशन का हिस्सा थे।

पृथ्वी से चांद पर जाने में कितना समय लगता है?

चांद पृथ्वी पर 384,400 किमी( 238 855 मील) है। एक अंतरिक्ष यान धरती से चंद्रमा तक पहुंचने में लगभग 3 दिन लगाता है।

अंतरिक्ष में जाने वाले प्रथम व्यक्ति कौन थे?

यूरी गगारिन (Yuri Gagarin) वह भूतपूर्व सोवियत संघ के अंतरिक्ष यात्री थे तथा वे 12 अप्रैल 1969 को अंतरिक्ष मेंजाने वाले प्रथम मानव बने।

अंतरिक्ष में जाने वाले प्रथम भारतीय कौन थे?

अंतरिक्ष में जाने वाले प्रथम भारतीय व्यक्ति राकेश शर्मा थे. इनका जन्म 13 जनवरी 1949 को पंजाब के पटियाला में हुआ था। वे विश्व भर में अंतरिक्ष में जाने वाले 138 अंतरिक्ष यात्री थे।

क्या कोई भारतीय चंद्रमा पर गया है?

अभी कोई भी भारतीय है कि चाँद पर नहीं गया है हालाँकि अंतरिक्ष में अब तक 4 भारतीय भी जा चुके हैं जिनमें राकेश शर्मा प्रथम थे।

अंतरिक्ष में जाने वाली प्रथम महिला कौन थी?

अंतरिक्ष में जाने वाली प्रथम महिलासोवियत संघ की वेलनटीना तेरेश्कोवा थी उन्होंने 1963 में अंतरिक्ष के लिए उड़ान भरी थी।

Leave a Comment